महिलाओं के लिए गर्भ निरोधक विकल्प :

महिला कंडोम स्परमिसिडिस संयुक्त मौखिक गर्भनिरोधक
मौखिक गर्भनिरोधक प्रोजेस्टिन (मिनी पिल) आपातकालीन गर्भनिरोधक प्रौजैस्टिन ओनली इनजैक्टेबलस
इन्ट्रा युटरीन डिवाइज सेंट्चरोमन महिला बन्ध्यीकरण - ट्यूब बंधी

महिला कंडोम

महिला कंडोम क्या होता है?

महिला कंडोम 17 सेमी. (6.5 इंच) लम्बी पोलीउस्थ्रेन की थैली होती है। सम्भोग के समय पहना जाता है। यह सारी योनि को ढक देती है जिससे गर्भ धारण नहीं होता और एच आई वी सहित यौन सम्पर्क से होने वाले रोग नहीं होते।

संभोग के विभिन्न आसन की संभोग चित्र सहित सूची देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

 
 
 

महिला कंडोम की क्या विशेषता है?

कंडोम के दोनों किनारों पर लचीला रिंग होता है। थैली के बन्द किनारे की ओर से लचीले रिंग को योनि के अन्दर डाला जाता है ताकि कंडोम अपनी जगह पर लग जाए। थैली की दूसरी ओर खुले किनारे का रिंग बल्वा के बाहर योनि द्वार पर रहता है। सहवास के समय लिंग को योनि के अन्दर डालते समय वह रिंग एक मार्गदर्शक का काम करता है और थैली को योनि में ऊपर नीचे उछलने से रोकता है। कंडोम में पहले से ही सिलिकोन आधारित चिकनाई लगी रहती है।

महिला कंडोम के उपयोग के लाभ क्या हैं?

महिला कंडोम के उपयोग के लाभ इस प्रकार हैं -

1. कंडोम प्रयोग को अपने साथी के साथ के बांटने का अवसर महिला को मिलता है। Female Condom

2. यदि पुरूष कंडोम प्रयोग के लिए राजी न हो तो महिला अपने लिए कर सकती है।

3. पौलियूरथेन से बने महिला कंडोम से पुरूष के लेटैक्स से बने कंडोम की अपेक्षा एलर्जी की सम्भावनाएं कम रहती हैं।

4. यदि सही इस्तेमाल किया जाए तो यह गर्भ धारण एवं एसटीडी से बचाता है।

5. सम्भोग के आठ घन्टे पहल से लगाया जा सकता है इसलिए इससे रतिक्रिया में बाधा नहीं पड़ती।

6. पौलियूथरेन पतला होता है और ऊष्मता को सह जाता है अतः यौन अनुभूत बनी रहती है।

7. इसे तेल आधारित चिकनाई से काम में लाया जा सकता है।

8. इसको रखने के लिए किसी विशेष सावधानी की जरूरत नहीं पड़ती क्योंकि पोलियूथेन पर तापमान और आर्द्रता के बदलाव का असर नहीं पड़ता। जनाना कंडोम निर्मित के पांच साल बाद तक काम में लायें जा सकते हैं।

गर्भधारण को रोकने में जनाना कंडोम कितना प्रभावशाली है?

यदि इसका सही ढ़ंग से और नियमित रूप से प्रयोग किया जाए तो इसकी प्रभविष्णुता 98 प्रतिशत है अगर सही और नियमित न हो तो प्रभविष्णुता की दर घट जाती है।

जनाना कंडोम के उपयोग की सही विधि क्या है?

जनाना कंडोम के उपयोग की सही विधि इस प्रकार है -

1.  पैकेट को सावधानी से खोलें – कंडोम को योनी के अन्दर डालने के लिए सुविधाजनक स्थिति चुने- पालथी, एक टांग उठाकर, बैठकर या लेटकर

जनाना कंडोम के उपयोग महिला कंडोम

2.  कंडोम के अन्दर वाले रिंग को अन्दर दबाएं अंगूठे और मध्यमा की मदद से ताकि वह लंम्बा और तंग हो जाए और तब आन्तरिक रिंग और थैली को यानि द्वार से डालें।

3.  तर्जनी को कंडोम के अन्दर डालें और रिंग जहां तक जाये उसमें दबा दें।

कंडोम के उपयोग की सही विधि

4.  सुनिश्चत करें कि कंडोमं सीधा लगा है और योनि में जाकर मुडे नहीं। बाहरी रिंग योनि से बाहर ही रहना चाहिए।

5. सह्वास के लिये लिंग को योनी में डालवाते हुए लिंग को कंडोम के अन्दर ले जाने का रास्ता दिखायें और ध्यान रखें कि वह कंडोम से बाहर योनि में न चला जाए।

महिला कंडोम

क्या महिला कंडोम का प्रयोग सरल है?

महिला कंडोम का उपयोग कठिन नहीं है परन्तु उसके उपयोग के लिए अभ्यास की जरूरत है। पहली बार सम्भोग के दौरान इसका उपयोग करने से पहले महिला को डालने और निकालने का अभ्यास कर लेना चाहिए। संस्तुति की जाती है कि इसके उपयोग में आत्मविश्वस्त होने और सुविधा महसूस करने के लिए उपयोग से पहले कम से कम तीन बार इसका अभ्यास कर लेना चाहिए।

क्या महिला कंडोम के लिए चिकनाई का प्रयोग किया जाना चाहिए, यदि हां तो कैसी चिकनाई?

महिला कंडोम में पहले से ही चिकनाई होती है, उनमें सिलिकोन आधारित स्परमिसिडिल रहित चिकनाई होती है। इससे कंडोम को लगाने में आसानी होती है और संभोग की गतिविध में सुविधा रहती है। पहले हो सकता है कि चिकनाई से कंडोम फिसले। यदि बाहरी रिंग कंडोम कंडोम के अन्दर चला जाये या योनि से बाहर आ जाए तो और अधिक चिकनाई की जरूरत पड़ती है। इसके अतिरिक्त, अगर सम्भोग के समय कंडोम का शोर हो तो थोड़ी सी चिकनाई और लगायें। महिला कंडोम जल आधारित के वाई जैली और तेल आधारित वैसलीन या बेबी ऑयल दोनों प्रकार की चिकनाई से लगाये जा सकते हैं।

सम्भोग के दौरान यदि कंडोम खिसक जाए या फट जाए तो क्या करना चाहिए?

यदि सम्भोग के समय कंडोम फट जाए या लिंग योनि में चला जाए तो एकदम रूकें और कंडोम को बाहर निकालें। नया कंडोम लगाएं और थैली के द्वार पर लिंग पर अतिरिक्त चिकनाई लगायें।

कंडोंम को कैसे निकालें या फैकें?

कंडोम को निकालने के लिए बाहरी रिंग को हल्के से घुमायें और कंडोम को इस तरह बाहर निकालें कि वीर्य उसी में रहे। कंडोम को टिशु या पैकेट में लपेट कर फैकें। उसे टॉयलट में मत डालें।

क्या महिला कंडोम का दोबारा उपयोग हो सकता है?

नहीं इसका दोबारा उपयोग नहीं करना चाहिए।

महिला कंडोम से क्या हानियां हो सकती हैं?

इसके उपयोग से निम्नलिखित हानियां देखने को आई हैं -

1.  क्योंकि बाहरी रिंग योनि से बाहर रहता है तो कुछ कुछ औरतों का ध्यान उसी में रहता है।

2.  सम्भोग के समय आवाजें कर सकता है। अधिक चिकनाई से यह सम्स्या हल हो सकती है।

3.  कुछ महिलाओं को इसे लगाना और हटाना बड़ा कठिन लगता है।

4.  गोली जैसे अनवरोधक की अपेक्षा इसकी असफलता दर कुछ ऊंची है।

क्या एक ही समय महिला कंडोम और पुरूष कंडोम दोनो का उपयोग किया जा सकता है?

एक एक समय में दोनो प्रकार के कंडोम का उपयोग नहीं करना चाहिए। साथ-साथ उपयोग करने से रगड़ लगने पर कोई एक या दोनों ही फिसल सकते हैं या फट सकते हैं या बाहरी रिंग को हिलाकर योनि में डाल सकते हैं।

संभोग के विभिन्न आसन की संभोग चित्र सहित सूची देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

गर्भ निरोधक

 

top women in the world