मां दुर्गा के नवरुप श्री दुर्गा चालीसा श्री विन्ध्येश्वरी चालीसा श्री विन्ध्येश्वरी स्तोत्र
दुर्गा मन्त्र श्री दुर्गा आरती श्री विन्ध्येश्वरी आरती श्रीदुर्गाद्वात्रिंशन्नाममाला
 

 

श्री दुर्गा आरती

Durga Maa Goddess of power

श्री दुर्गा आरती

जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामागौरी।

तुमको निशिदिन ध्यावत हरि ब्रह्मा शिव री ॥ जय० ॥

माँग सिंदूर विराजत टीको मृगमद को ।

उज्ज्वल से दोउ नैना, चन्द्रबदन नीको ॥ जय० ॥

कनक समान कलेवर रक्ताम्बर राजै ।

रक्त-पुष्प गल माला, कंठन पर साजै ॥ जय० ॥

केहरि वाहन राजत, खड्‍ग खप्पर धारी ।

सुर-नर मुनि-जन सेवत, तिनके दुखहारी ॥ जय० ॥

कानन कुण्डल शोभित, नासाग्रे मोती ।

कोटिक चन्द्र दिवाकर सम राजत ज्योति ॥ जय० ॥

शुम्भ निशुम्भ विदारे महिषासुर-घाती ।

धूम्रविलोचन नैना निशिदिन मदमाती ॥ जय० ॥

चण्ड मुण्ड संहारे, शोणितबीज हरे ।

मधु कैटभ दोउ मारे, सुर भयहीन करे ॥ जय० ॥

ब्रह्माणी, रुद्राणी तुम कमलारानी ।

आगम-निगम-बखानी, तुम शिव पटरानी ॥ जय० ॥

चौंसठ योगिनि गावत, नृत्य करत भैरूँ ।

बाजत ताल मृदंगा औ बाजत डमरू ॥ जय० ॥

तुम ही जगकी माता, तुम ही हो भरता ।

भक्तनकी दुख हरता सुख सम्पति करता ॥ जय० ॥

भुजा चार अति शोभित, वर-मुद्रा धारी ।

मनवांछित फल पावत, सेवत नर-नारी ॥ जय० ॥

कंचन थाल बिराजत अगर कपुर बाती ।

श्री मालकेतु में राजत कोटि रतन ज्योति ॥ जय० ॥

श्री अम्बे जी की आरती जो कोई नर गावै ।

कहत शिवानंद स्वामी सुख-सम्पत्ति पावै ॥ जय० ॥

top